//The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding Report

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding Report

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding Report

Lucknow Fact Finding Report
Illegal Arrests and Violence in Lucknow
Purpose of the investigation:Reason for a large number of arrests in Lucknow, UP.

Release of Fact Finding Report – The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime

Members of the fact finding team:
1) Advocate Ansar Indori, Member, National Working Committee, NCHRO.
2) Nahid Akeel, Convener, NCHRO, U.P. East.
3) Akriti Bhatia, Workers Unity and Member, NCHRO Delhi chapter.
4) Dr.Bhawna Bedi, Professor, University of Delhi and Member, NCHRO.

5) Isha Shandilya, Social Activist
6) Adv.Saifan Sheikh, Advocate, NCHRO.
7) Seema Azad, Member, National Council, PUCL.

Date of investigation: 29-30 December 2019.


Background: The central government passed the contentious Citizenship Amendment Act (CAA) after getting it passed in both houses of the parliament. This was followed by a series of protests against this act across the country. All the democratic organisations and parties called this act undemocratic, communal and anti-constitutional. The protests against CAA in Jamia Millia Islamia, a university in Delhi, and the subsequent police repression on this university and its students led to an intensification in protests across the country. December 19th is celebrated as the day of the martyrdom of Ram Prasad Bismil and Ashfaqullah Khan, two fighters in the famous Kakori Conspiracy Case during the Indian freedom struggle. In light of this organisations across the country had declared that they would celebrate this day as a day of Hindu-Muslim unity, celebrating shared heritage, hailing their joint martyrdom across communities and underlining common citizenship in this country. Appeals were made to come together, gather in different cities across Uttar Pradesh and celebrate this day. In Lucknow, too, an appeal was made to gather at the Gandhi Statue in Hazratganj and Parivartan Chowk to commemorate this day of joint martyrdom and speak out against CAA.

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding

After the brutal repression in Jamia Millia Islamia, every organisation had appealed that the protest should be conducted in a peaceful manner. The same was done in Lucknow. But, like in other cities, the state administration had imposed Section 144 in Lucknow from the night of 18th December itself. Alongside this, the administration arrested three well-known Lucknow-based social activists sometime between the 18th night and 19th early morning; Advocate Mohammad Shoaib, former IPS officer SR Darapuri and Magsaysay award winner Sandeep Pandey. The trio could not attend any of protests on the 19th, but by the night of 19 and 20th December, the police detained Advocate Mohammad Shoaib and SR Darapuri and sent them to jail on the 21st. Preventing anyone from participating in peaceful demonstrations is not only undemocratic but, in the whole process, the police disregarded and broke several laws and regulations. Apart from them, many other social activists of the city were arrested, kept in illegal detention where they were beaten and tortured in various ways. Mohammed Vakil, an auto driver living in Daulatganj, an old locality of Lucknow, was shot and killed during the demonstration on the 19th. No one has any information about when and how the violence started in the 19th of December. The police started accusing the organisation named PFI from 22nd December, but PFI members said that they had ordered their members to not participate in the protests.

Mohammed Vakil


Details of the arrested and detained:
Among the people who have been arrested, the fact-finding team met their family members and the details of their arrests and detention are as follows:


SR Darapuri: SR Darapuri, a 76-year-old former IPS officer, had been opposing the CAA from the very beginning. He had said he would join the protests on the 19th and appealed to others to participate in the protests in Lucknow under the banner of Purv Chetna Manch Swaraj, Indian People’s Front. All his posts on Facebook can be seen in which he has appealed to everyone to peacefully oppose the CAA. His son Veer said that when section 144 was imposed in the city on the 18th itself, Darapuri tried to talk to the administration that everyone who so wishes should be allowed to protest peacefully. But when the administration refused to budge, he decided that he would not go for the protest. On the morning of the 19th, when he went out for a walk in the park in front of this house, he saw a police guard stationed outside the house. He assured the guard that he would not go out that day. But the police guard remained stationed there all day. Around 11:45 am on December 20th, police personnel from the nearby station came in a jeep and took Darapuri with them saying that they would let him leave after some questioning. But when he did not return for 2-3 hours and he could not be reached, the family filed a complaint by calling 112. After some time, his son received a call from the adjacent Ghazipur police station that Darapuri is there and that he can come and meet him. When the family members went to meet him, they came to know that the police did not let Darapuri eat food throughout the day. At five o’clock in the evening, he was given food and medicines brought from home. He was sent to Hazratganj Police Station that same night. Darapuri called his family members at half past one in the night and asked them for warm clothes and food. He was kept seated in a chair all night. In the morning the next day, he was sent to jail in a Vajra van. His son said that not only does Darapuri have prostate problems, he also showed signs of cancer for which he has been undergoing treatment for a long time. He has to go for regular checkups for the same. His wife has been ill for 10 years. Her health worsened due to the news of Darapuri going to jail. She has been afraid that she may lose her life and be unable to see him again. He has been charged under sections 147, 148, 149, 152, 307, 323, 504, 506, 332, 353, 188, 435, 436, 120-B, 427 Sections 3, 4 of the Public Property Loss Prevention Act 1984 and Section 7 of the Criminal Law (Amendment) Act 1932 of the IPC. These include allegations ranging from inciting people to violence to murderous assault on the police.

Release of Fact Finding Report – The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime


Mohammad Shoaib:
74-year-old Advocate Mohammad Shoaib fights cases for poor innocent Muslims accused of terrorism. He belongs to the Socialist Party. He has been conferred with the title ‘Loktantran Senani’ by the Uttar Pradesh government. He heads the organisation Rihai Manch dedicated to the release of innocent Muslim youth currently incarcerated in jails. He also appealed for a peaceful protest against the CAA. But from the evening of the 18th itself police personnel reached his house and put him under house arrest. Due to this, he was unable to attend any of the protests on the 19th. On the night of the 19th around quarter past twelve the police took him with them saying that they would let him go after making some inquiries. But when he did not come home till morning, his family started searching for him in the police stations, but they were unable to find him anywhere. By 20th night, the family had prepared a Habeas Corpus petition. After filing it in court on the 21st, they found out that he is at the Hazratganj Police Station and was being sent to jail. This entire episode is verifiable and witnessed by several, but during the arguments in court on the 2nd of January, the government lawyer said that he was arrested near the Hotel Clarke intersection. This is an outright lie. On the night of 21st January, he was sent to jail without producing him before a magistrate and he was charged under sections 147,148, 149, 152, 307, 323, 504, 506, 332, 353, 188, 435, 436, 120-B, 427, Section 3,4 of the Public Property Loss Prevention Act 1984 and Section 7 of the Criminal Law (Amendment) Act, 1932 of the IPC. All these charges were filed even though he had been under house arrest since December 18th and, consequently, did not participate in any of the protests on the 19th of December. It is important to note that Mohammad Shoaib has diabetes, high blood pressure and cholesterol.

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


Sadaf Zafar:
Sadaf Zafar is the state spokesperson of the Congress Party, and an actress. She was there during the demonstration on the 19th and was recording Facebook Live at the time of her arrest. In the video she posted it is clear that she is pointing at some of the people involved in the protest who were pelting stones and asking the policemen nearby why they weren’t stopping them. She is seen saying that they are outsiders and not a part of the protest. This incident was at half past five in the evening. After a while the video stopped and her whereabouts were not known for the next 48 hours. Geeta Singh, her neighbor and a social worker who runs a school for slum children, said that at night Sadaf’s children told her that their mother had not come home yet. After that, they started looking for her in every police station and all her friends were contacted but she could not be found anywhere. The next day when Deepak Kabir reached Hazratganj police station to enquire if she was there, he was also arrested. On the evening of the 21st it was learned that Sadaf is being sent to jail, something her family and friends got to know from sources other than the police. When her sister Naheed Verma went to meet Sadaf in jail, she told her that male police personnel had arrested her when she was making the Facebook Live video. She was severely beaten by the police in the police station. Male police personnel abused her and stabbed her in the lower abdomen, causing severe bleeding. Sadaf is a single mother of two children.


Deepak Kabir:
Deepak Kabir is a poet and theater activist. Deepak’s wife Veena Rana said that they both participated in a peaceful demonstration on the 19th. On the 19th, Deepak was neither among those detained nor among those arrested, while Veena was detained from Parivartan Chowk, taken to the Eco Garden in the evening and let off. On that day, Deepak went looking for all those people who were missing or not reachable and he continued searching for them on the 20th as well. On the morning of the 20th, Deepak reached Hazratganj Police Station in search of Sadaf Jafar. Here he asked a SHO named Kushwaha about her. The SHO denied any knowledge of the same. But Deepak saw that Sadaf was there. He came out and called Anees Ansari at 11:40 AM and told him that Sadaf was there. By that time, the SHO came up to Deepak, snatched his phone and cut the call. Then, he was abused and beaten by the police, who then took him inside and locked him up. The SHO Kushwaha called other women and men police personnel stationed at the police station, showed them Deepak’s face and asked them – “Look, is this the same person from Jamia?” Several nodded in agreement. Following this Deepak was brutally assaulted by the police. Deepak has also talked about third degree torture he faced, he was called an ‘Urban Naxal’ and even the SSP came to question him. It is important to note that two days earlier Deepak had participated in a peaceful demonstration organised by the students in Lucknow and condemned police brutality in Jamia. It became clear that the brutal actions of the police personnel towards Deepak in the station was retaliatory.Veena said that the police did not give any formal notice regarding Deepak’s arrest. By 20th evening when Veena was unable to find him, she posted asking for his whereabouts on Facebook and contacted reporters to investigate. That night while she was preparing the Habeas Corpus petition to be filed the next day, she heard from an acquaintance that Deepak is one among those arrested and is being sent to prison. In the FIR, Deepak’s name is added by hand at the end while the names of the others are typed.

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


Robin Verma:
On November 20th, Robin Verma of Rihai Manch was arrested near a restaurant in Lucknow while he was with his journalist friend. He was brutally beaten with batons and belts in police custody.

Five arrests from one house:
There were a total of five arrests from a house in Lucknow’s River Front Station area, while only one of them participated in the demonstration. These are Wasim Ahmed, State Convener of PFI, Samin Ahmed, Wasim’s brother and the only one who went to the demonstration, Shahvez Ahmed, brother-in-law of Samin Ahmed, Ibad and Abdul Hafeez, who are maternal cousins of Shahvez Ahmed. Sameen had gone to the demonstration but, after a while, he was unreachable. His brother Wasim Ahmed reached Hazratganj Police Station with two of his friends, Nasir and Nafees, to find him. But, instead, all three were detained. By the 20th, when there was no information on the whereabouts of Samin, his father-in-law Irshad Ahmed sent his son, 17-year-old Shahvez Ahmed, to the police station to find him. Shahvez was accompanied by his two maternal cousins and a friend who joined them on their way. While Shahvez, Ibad and Abdul Hafeez went inside the police station, their friend waited for them outside. When they did not come out for a long time, their friend went to their home and told the family. Following this, when the mothers of the three boys reached the police station, the police personnel verbally abused the women, took their batons and left. On 20th night, Shahvez’s father Irshad consulted with a lawyer and emailed the DGP and also sent him a fax the next day. On the 21st at 2 in the afternoon, the family got a call from Hazratganj Police Station saying that their children are there, so is their vehicle and that they can come and take them away. Irshad said that when we went to the police station to meet his children, their faces were drawn and they were not saying anything. It seemed that they had been badly beaten up.Shahvez is a student pursuing his intermediate and his exams are scheduled for February. Abdul Hafeez’s mother said that their household runs on his income, he is an electrician. Meanwhile, Ibad, who is her sister’s son, is a tailor. He is 24 years old. Shahvez and Abdul Hafeez’s mother said that this law that the government had brought to force is wrong, but her children were not even in the demonstration. They only went to find their brother-in-law. Samin’s wife is at her maternal home with her six-month-old girl. The whole household is mourning all these arrests. Everyone is angry with what has happened.


The truth about PFI:
PFI members said that Wasim Ahmed, who is the convener of PFI’s Ad-hoc Committee and who the police are describing as the mastermind of this upsurge, was visited at his home by the police on the evening of the 18th of December. He was not home at that time. The police asked his family to sign a notice, but those at his home refused. The police left saying that “I have seen the house and can come again anytime”. On the night of the 19th, Wasim went to Hazratganj Police Station with some companions to find his brother Samin. He, along with his two friends, were seated inside. Then nothing was known about them until the 22nd. On the night of the 21st, the police raided the PFI guest house in Khurram Nagar. The neighbours said that the police came there in 12 vehicles and stayed inside for more than an hour. Nadeem Ahmed and Mohammad Ashfaq, who were sleeping there, were arrested. The police took away all of their belongings including computers. When asked about the role of PFI members in this demonstration, they said that “the members were advised not to participate in this demonstration because we were not clear which organisation had given the call for the protest. Who will do what was unclear.”But the police alleged that they found anti-CAA placards, banners and pamphlets from the office. When asked about this, they said that, “those are from the December 11th protest demonstration called in Lucknow by the Social Democratic Party of India. Following the demonstration, the placards were kept in the guest house.” Regarding the work of the PFI, the members said that the organisation mainly promotes education for poor Muslims. On that day, there were roughly 150 forms for scholarships in the guest house which the police have taken with them. They said that, “We also work on the education provided in madrasas. Apart from this, we do small charitable work.”In response to why the police is targeting them in this manner, they said this is “because we are Muslims and our organisation speaks against fascism. We had also campaigned against UAPA, there was some literature on the history of Babri Masjid at our office and literature condemning the decision on the case. These would not be taken well by the government.”Even as preparations are on to ban PFI, the members fear that the number of arrests will increase further.

Death during the demonstration:
During the protest, Mohammed Vakil, an auto driver living in Daulatganj, was shot dead. Members of the fact-finding team went to meet the family members of the deceased at their home. Mohammed Vakil’s father Mohammad Safruddin said that his eldest son Mohammed Vakil had decided to not ply his auto in light of the 19th December protest. He hated crowds. He had gone out of the house in the afternoon to buy his wife’s medicines and rations for the home. When he didn’t find what he was looking for, he went out of the street and on to the main road, where he was shot. Someone called from his phone around 3 pm saying that he had been shot. His friend Sameer ran to him and took him to the trauma center, but he did not survive. Regarding who fired the shot his family said that, “Since they did not see it happen, how can we say.” But, according to newspaper reports, there was an incident of police firing. When Mohammed Vakil died, the police came and took his body for postmortem. Till date, the post-mortem report has not been given to his family. Meanwhile, the DM has hurriedly handed over the papers for a government house to his family and promised a compensation of five lakh rupees. Safruddin lives in a rented house with his five children. He was a mason, but like all masons, he has no home of his own. He has a daughter of marriageable age. Mohammad Vakil was the sole breadwinner of the family. The remaining children are still young. They are kept at the DM residence from 11 am to 6 pm, where their food and refreshments are also arranged. At this time, they are unable to decide how to proceed.


Sandeep Pandey:
Magsaysay award winner and Gandhian social activist Sandeep Pandey was also put under house arrest from 19th morning. He was not allowed to go out all day. He protested at his home with a placard in an area visible from the outside.

Release of Fact Finding Report – The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime

Investigation Findings:

  • The arrests made in connection with the December 19th protests are false. Majority of the arrested people are those who were not involved in the protest. Those who were in the protest were part of peaceful demonstrations. They had nothing to do with the violence during the demonstration.
  • The arrests of Advocate Mohammed Shoaib and SR Darapuri and the invocation of charges like attempt to murder on them are extremely wrong and condemnable. They were at home under the supervision of the police since 18th night and 19th morning. They were taken in police vehicles and sent straight to jail. The allegations against them are false and entirely baseless.
  • In all the arrests, the police have blatantly violated the rule of law. After the arrests, the police did not inform the family and did not present anyone before a magistrate within 24 hours. Some people were sent straight to jail without being presented before the magistrate.The police tortured everyone in custody. Persons like SR Darapuri and Mohammad Shoaib, who are old and unwell, were made to spend nights in the cold on a chair. None of their family members were informed. All others were beaten in the police station, even extending to third degree torture.
  • Hazratganj Police Station became a Blackhole: Hazratganj Police Station played a key role in the illegal detention and assault on people in police custody. This station had become a blackhole in the sense that whoever went looking for family members there would find themselves detained or arrested instead. The most blatant violation of human rights happened in this police station.
    *There is no definitive evidence regarding who started stone pelting during the protest demonstration. Those in the demonstration have said that the stone-pelters were outsiders. In her video on Facebook before her arrest, Sadaf can be seen telling the police personnel that, “Stop these people, they are not among us.” For saying this and for making this video, the police arrested Sadaf instead.
  • This raises doubts about the role of the police. Further, targeting PFI for inciting violence instead of taking action when it was happening further raises questions about the role of the police. Sandeep Pandey has said that the police wanted a scapegoat, for which they have marked PFI.

  • Demands:
    1.All the arrested people should be released immediately and all the cases against them should be withdrawn.
    2.Post-mortem report of Mohammad Vakil should be made public. After investigating his murder, a case should be registered against the guilty.
    3.A committee to investigate who committed these acts of violence during the demonstration should be constituted and it should be headed by a High Court Judge.
    4.The efforts to blame PFI for the violence in an effort to ban it should be stopped immediately.
    5.The SHO of Hazratganj Police Station and all police personnel therein who failed to uphold the law and, instead, participated in blatantly violating it should be dismissed and strict action should be taken against them.
    6.Strict action should be taken against the police personnel who physically and mentally tortured Deepak Kabir, Sadaf Jafar, Robin Verma and other activists and they should be prosecuted as well.

Video

Report in Hindi

लखनऊ जांच रिपोर्ट
जांच का उद्देश्य– इतने बड़े पैमाने पर हुई गिरफ्तारियों की वजह का पता लगाना।


जांच टीम के सदस्य
1-एड्वोकेट अन्सार इन्दौरी,   सदस्य,राष्ट्रीय कार्यसमिति,एनसीएचआरओ
2- नाहिद अकील, संयोजक,एनसीएचआरओ, यू.पी. पूर्व।
3- आकृति भाटिया, वर्कर्स यूनिटी और सदस्य एनसीएचआरओ।
4-भावना बेदी, अध्यापक दिल्ली विवि, सदस्य एनसीएचआरओ
5-ईशा शांडिल्य, सामाजिक कार्यकर्ता, एनसीएचआरओ दिल्ली।
6-सैफान शेख, अधिवक्ता, एनसीएचआरओ।
7-सीमा आज़ाद, पीयूसीएल नेशनल काउंसिल सदस्य।
जांच की तारीख- 29-30 दिसम्बर 2019


पृष्ठभूमि– केन्द्र सरकार ने विवादित कानून सीएए को संसद के दोनों सदनों से पास करा लिया, इसके बाद देश भर में इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला शुरू हो गया, क्योंकि सभी जनवादी संगठनों ने इस कानून को जनविरोधी साम्प्रदायिक और संविधान विरोधी बताया। जामिया मिलिया विवि में इसके खिलाफ हुए प्रदर्शन और उस पर पुलिसिया दमन के बाद इन प्रदर्शनों में तेजी आ गयी। 19 दिसम्बर को क्योंकि आज़ादी के आन्दोलन के प्रसिद्ध काकोरी काण्ड के दो सेनानियों राम प्रसाद बिस्मिल और अशफाकउल्ला खां की शहादत का दिन था। इसलिए देश भर के संगठनों ने इस दिन को हिन्दू- मुस्लिम एकता और साझी विरासत, साझी शहादत, साझी नागरिकता के रूप में मनाने की घोषणा की थी। उत्तर प्रदेश के हर शहर के ऐसे स्मारक पर इकट्ठा होकर इसे मनाने की अपीलें की गयी थी। लखनऊ में भी हजरतगंज के गांधी प्रतिमा और परिवर्तन चौक पर इकट्ठा होकर इसे मनाने और साझी शहादत के इस दिन पर सीएए का विराध करने की अपील की गयी थी। जामिया मिलिया में हुए दमन के बाद हर संगठन ने यह अपील की थी कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से किया जाय। ऐसा ही लखनऊ में भी किया गया था। लेकिन बाकी शहरों की तरह 18 दिसम्बर की रात से ही प्रशासन ने लखनऊ में भी धारा 144 लगा दी थी। इसके साथ ही प्रशासन ने 18 की रात और 19 की सुबह से ही लखनऊ के जाने-माने 3 सामाजिक कार्यकर्ता मुहम्मद शुएब, पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी और संदीप पाण्डेय को हाउस अरेस्ट कर लिया था। 19 के किसी भी प्रदर्शन में ये तीनों नहीं शामिल हो सके, लेकिन 19-20 की रात तक पुलिस ने एड्वोकेट मुहम्मद शुएब और एसआर दारापुरी को हिरासत में ले लिया और 21 को जेल भेज दिया। किसी को शांतिपूर्ण प्रदर्शन में शामिल होने से रोकना तो अलोकतान्त्रिक है ही, इस पूरी प्रक्रिया में भी पुलिस ने अनेक कानूनी नियमों की अवहेलना की। इनके अलावा शहर के अन्य कई सामाजिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया, उन्हें अवैध हिरासत में रखा गया जहां उन्हें पीटा गया, और कई तरह की यातनायें दी गयीं। लखनऊ के पुराने इलाके दौलतगंज में रहने वाले ऑटो चालक मोहम्मद वकील की 19 के प्रदर्शन के दौरान गोली लगने से मौत हो गयी। 19 तारीख के प्रदर्शन में हिंसा कब और कैसे शुरू हुई इस बारे में किसी के पास कोई जानकारी नहीं है। पुलिस ने 22 दिसम्बर से इसका आरोप पीएफआई नाम के संगठन पर लगाना शुरू किया है, लेकिन पीएफआई के लोगों का कहना है कि हमने संगठन के सदस्यो को प्रदर्शन में शामिल न होने के आदेश दिया था।
आगे हम जांच में पाये गये तथ्यों को विस्तार से रख रहे हैं।

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


गिरफ्तारियां
जिन लोगों की गिरफ्तारियां हुई हैं, उनमें से जांच दल जिन लोगों के परिजनों से मिला, उनका बताया विवरण इस प्रकार है।


एसआर दारापुरी– 76 साल के पूर्व आईपीएस अफसर एसआर दारापुरी शुरू से ही सीएए की मुखालफत कर रहे थे। 19 तारीख को लखनऊ में होने वाले प्रदर्शनों में शामिल होने के लिए उन्होने भी पूर्वी चेतना मंच स्वराज, इण्डियन पीपुल्स फ्रण्ट के बैनर के साथ अपील की थी। उनकी सभी पोस्ट फेसबुक पर देखी जा सकती है, जिसमें उन्होंने सभी से शांतिपूर्ण ढंग से सीएए का विरोध करने की अपील की है। उनके बेटे वीर ने बताया कि जब 18 को ही शहर में धारा 144 लगा दी गयी, तो उन्होंने प्रशासन से बात करने की कोशिश की, कि उन सभी लोगों को शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करने दिया जाये, लेकिन जब प्रशासन तैयार नहीं हुआ, तो उन्होंने तय कर लिया था कि अब वे प्रदर्शन में नहीं जायेंगे। 19 की सुबह जब वे टहलने के लिए सामने के पार्क में निकले तो देखा, कि एक सिपाही घर के बाहर तैनात है, उन्होंने उसे भी आश्वस्त किया कि वे कि वे आज कहीं बाहर नहीं जायेंगे। लेकिन सिपाही पूरे दिन वहीं तैनात रहा। 20 दिसम्बर की सुबह 11.45 के आसपास थाने की पुलिस जीप में आई और दारापुरी जी को अपने साथ ले गयी, यह कहकर कि थोड़ी पूछताछ के बाद छोड़ देंगे। लेकिन जब 2-3 घण्टे तक वे नहीं लौटे और उनका कुछ पता भी नहीं चल रहा था, तो हमने 112 पर इसकी शिकायत दर्ज कराई। थोड़ी देर बाद बगल के गाजीपुर थाने से फोन आया कि दारापुरी जी यहां हैं, आप लोग आकर मिल सकते हैं। घर वाले मिलने गये तो पता चला कि दारापूरी जी को दिन भर उन्हें खाना भी नहीं खाने दिया। शाम पांच बजे घर से ले जाकर उन्हें खाना खिलाया गया और दवाइयां दीं। उसी दिन रात को उन्हें हजरतगंज थाने भेज दिया गया। रात डेढ़ बजे किसी से फोन करवाकर उन्होंने अपने लिए गर्म कपड़े और खाना मंगवाया। रात भर उन्हें एक कुर्सी पर बिठाये रखा। सुबह उन्हें वज्र वैन से जेल भेज दिया। बेटे का कहना है कि उन्हें प्रोस्टेट की समस्या तो है ही, कैंसर होने के लक्षण भी दिखाई दिये थे, जिसका पिछले लम्बे समय से इलाज चल रहा है। उन्हें नियमित रूप से जांच के लिए जाना होता है। उनकी पत्नी 10 साल से बीमार चल रही हैं। दारापुरी जी के जेल जाने की खबर से उनकी तबीयत और भी खराब हो गयी है, उन्हें डर है कि कहीं उन्हें देखे बगैर ही उनकी जान न निकल जाय। उन पर आईपीसी की 147,148,149,152,307,323,504,506,332,353,188,435,436,120-बी,427, सार्वजनिक सम्पत्ति नुकसान निवारण अधिनियम 1984 की धारा 3,4 और आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 1932 की धारा 7 लगायी गयी हैं। इनमें लोगों को हिंसा के लिए भड़काने से लेकर पुलिस पर जानलेवा हमला करने तक का आरोप शामिल है। 


मोहम्मद शुएब– 74 वर्षीय एडवोकेट मुहम्मद शुएब आतंकवाद के आरोप में फंसाये गये गरीब बेगुनाह मुसलमानों का केस लड़ते हैं। वे सोशलिस्ट पार्टी से जुड़े हैं। ‘लोकतन्त्र सेनानी’ का सर्टीफिकेट है उनके पास। मौजूदा बेगुनाह मुसलमानों की रिहाई के लिए बने मंच ‘रिहाई मंच’ के प्रमुख है। सीएए के खिलाफ शान्तिपूर्ण प्रदर्शन की अपील इन्होंने भी की थी। लेकिन 18 की शाम से ही पुलिस वाले इनके घर पहुंच गये और इन्हें ‘हाउस अरेस्ट’ कर लिया, जिसके कारण 19 के किसी भी प्रदर्शन शामिल नहीं हो सके। 19 की रात पौने बारह बजे पुलिस वाले इन्हें यह कहकर ले गये कि थोड़ी पूछताछ करके छोड़ देंगे। लेकिन सुबह तक जब वे घर नहीं आये, तो घर के लोगों ने और परिजनों ने थानों में उन्हें तलाशना शुरू किया, कहीं से कुछ पता नहीं चला। 20 की रात तक परिजनों ने ‘हेबियस कार्पस’ डालने की तैयारी कर ली, तब 21 को कोर्ट में इसे दाखिल करने के बाद पता चला कि वे हजरतगंज थाने पर हैं और उन्हें जेल भेजा जा रहा है। यह पूरा तथ्य सबके सामने है लेकिन 2 जनवरी को कोर्ट में बहस के दौरान सरकारी वकील ने यह कहा कि उन्हें होटल क्लार्क चौराहे के पास से गिरफ्तार किया गया है, जो कि सरासर झूठ है। 21 जनवरी केी रात उन्हें बिना मजिस्ट्रेट के सामने पेश किये जेल भेज दिया और उन पर आईपीसी की 147,148,149,152,307,323,504,506,332,353,188,435,436,120-बी,427, सार्वजनिक सम्पत्ति नुकसान निवारण अधिनियम 1984 की धारा 3,4 और आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 1932 की धारा 7 लगा दी गयीं, जबकि उन्हें पुलिस ने 19 दिसम्बर के एक दिन पहले ही ‘हाउस अरेस्ट’ कर लिया था, और वो अच्छी तरह जानती है कि वो किसी भी प्रदर्शन में शामिल नहीं थे।
मोहम्मद शुएब को डायबटीस, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल की बीमारी है।

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


सदफ ज़फर– सदफ ज़फर कांग्रेस पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता हैं, और अभिनेत्री हैं। वे प्रदर्शन में शामिल थीं, और गिरफ्तारी के वक्त फेसबुक लाइव कर रहीं थी। जिसमें साफ दिख रहा है कि वे प्रदर्शनकारियों में शामिल कुछ लोगों की ओर इशारा करके पुलिस वालों कह रहीं थीं कि आप इन पत्थरबाजों को रोकते क्यों नहीं, ये प्रदर्शकारियों का हिस्सा नहीं, बाहरी लोग हैं। यह घटना साढ़े पांच बजे की है। थोड़ी देर बाद वीडियो बन्द हो गया, और उसके बाद से 48 घण्टे तक उनका कुछ पता नहीं चल सका। उनकी पड़ोसी और झुग्गी बस्ती के बच्चों के लिए स्कूल चलाने वाली सामाजिक कार्यकर्ता गीता सिंह ने बताया कि रात में सदफ के बच्चों ने उन्हें बताया कि मां अभी तक घर नहीं आयी हैं। उसके बाद उन्हें हर थाने में खोजा जाने लगा, दोस्तों के यहां फोन लगाये जाने लगे, लेकिन कहीं कुछ नहीं पता चला। अगले दिन दीपक कबीर जब हजरतगंज थाने पर उनके बारे में पता लगाने पहुंचे तो उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया। सदफ के बारे 21 तारीख की शाम ये जानकारी हो सकी कि उन्हें अब जेल भेजा जा रहा है, वो भी हमें अपने स्रोतों से इसका पता लगा, न कि पुलिस वालों ने हमें इसकी सूचना दी। जेल में उनसे मिलने गयी सदफ की बहन नाहिद वर्मा से सदफ ने बताया कि वीडियो बनाने के दौरान ही पुरूष पुलिस वाले ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। थाने में  उनके साथ काफी मार-पीट की गयी। एक पुरूष पुलिस वाले ने उन्हें गालियां दी और पेट के निचले हिस्से में लाठी से वार किया, जिससे उन्हें काफी ज्यादा ब्लीडिंग हुई है। सदफ दो बच्चों की अकेली मां हैं। 


दीपक कबीर– दीपक कबीर कवि और थियेटर एक्टिविस्ट हैं। दीपक की पत्नी वीना राना ने बताया वे दोनों 19 तारीख के शांतिपूर्ण प्रदर्शन में शामिल थे। 19 तारीख को दीपक न तो डिटेन होने वालों में शामिल थे न ही गिरफ्तार होने वालों में, जबकि वीना को परिवर्तन चौक से डिटेन किया गया था, शाम को इको गार्डेन में ले जाकर छोड़ दिया। उस दिन रात में शहर के जो लोग नहीं मिल रहे थे उन लोगों को उन्होंने 19 की रात में भी तलाशा और 20 को भी। जब 20 की सुबह दीपक सदफ की तलाश में हजरतगंज थाने पर पहुंचे। यहां किसी ‘कुशवाहा’ नाम के थानेदार से उन्होंने सदफ के बारे में पूछा, तो उसने मना कर दिया। लेकिन दीपक ने देख लिया था कि सदफ वहां है। उसने बाहर आकर 11.40 सुबह अनीस अंसारी को फोन किया और बताया कि सदफ यहीं है। इतने में थानेदार वहां आ गया उसने दीपक से उसका फोन छीनकर काट दिया। फिर उन्हें गालियां देते हुए मारा-पीटा और उसे भी अन्दर ले जाकर बन्द कर दिया। कुशवाहा थानेदार ने थाने पर तैनात कुछ और महिला व पुरूष सिपाहियों को बुलाकर दीपक का चेहरा  दिखाकर कर पूछा-‘‘देखो यही था न जामिया वाले में?’’ उन्होंने समर्थन में सिर हिलाया, फिर दीपक को बुरी तरह मारा-पीटा गया,। दीपक ने थर्ड डिग्री टार्चर की भी बात की है, उन्होंने दीपक को ‘अर्बन नक्सल’ कहा और उनसे पूछताछ करने के लिए एसएसपी को भी बुलाया। उल्लेखनीय है कि लखनऊ में दो दिन पहले ही जामिया में हुई पुलिस हिंसा के खिलाफ छात्रों के एक शान्तिपूर्ण प्रदर्शन में दीपक ने भी भागीदारी की थी और भाषण भी दिया था। इसी को लेकर थाने के सभी पुलिस वाले उससे बदला ले रहे थे।
वीना का कहना है कि दीपक की गिरफ्तारी के बारे में पुलिस ने उन्हें कोई औपचारिक सूचना नहीं दी। 20 की शाम तक जब दीपक का कुछ पता नहीं चला तो उन्होंने फेसबुक पर इसकी सूचना डाली, पत्रकारों को फोन किया और अगले दिन सुबह हेबियस कार्पस की तैयारी कर ली थी, तो रात में 12 बजे किसी परिचित ने फोन करके बताया कि वे गिरफ्तार लोगों में शामिल हैं और उन्हें जेल भेजा जा रहा है। एफआईआर में दीपक का नाम अंत में पेन से जोड़ा गया है, जबकि बाकियों का नाम टाइप किया हुआ है।

Release of Fact Finding Report – The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime


रॉबिन वर्मा– रिहाई मंच के रॉबिन वर्मा को 20 तारीख को लखनऊ के एक रेस्टोरेंट के पास से गिरफ्तार किया, जब वे अपने पत्रकार दोस्त के साथ थे। उन्हें पुलिस कस्टडी में लाठी और बेल्ट से मारा गया।


एक घर से हुई पांच गिरफ्तारी- लखनऊ के रिवर फ्रंट थानाक्षेत्र में आने वाले एक घर से कुल पांच गिरफ्तारियां हुईं, जबकि इनमें से केवल एक प्रदर्शन में शामिल हुए थे। ये लोग है वसीम अहमद, जो पीएफआई के प्रदेश कन्वीनर है, समीन अहमद जो कि वसीम के भाई हैं। और एक मात्र यहीं हैं जो प्रर्दशन में थोड़ी देर के लिए शामिल होने गये थे। शावेज अहमद जो कि समीन अहमद के साले हैं, इबाद और अब्दुल हफीज जो कि शावेज अहमद के खालाजाद भाई हैं।
समीन प्रदर्शन में शामिल होने गये थे और उनका कुछ पता नहीं चल रहा था। उनके बारे में पता करने उनके भाई वसीम अहमद हजरतगंज थाने पहुंचे, तो उन्हें उनके दो दोस्तों नासिर और नफीस के साथ अन्दर बिठा लिया। 20 तारीख तक जब समीन का कुछ पता नहीं चला, तो उनके ससुर इरशाद अहमद ने  अपने बेटे 17 साल के शावेज अहमद को थाने में पता करने के लिए भेजा, उसके साथ उसके दो खालाजाद भाई भी हो लिए और रास्ते में एक दोस्त भी मिल गया, वो भी साथ चला गया। शावेज, इबाद और अब्दुल हफीज थाने के अन्दर चले गये और दोस्त बाहर ही उनका इंतजार करता रहा। जब वे बहुत देर तक बाहर नहीं आये तो उसने घर आकर लोगों को बताया। इसके बाद तीनों लड़कों की मां थाने पर पहुंची तो पुलिस वालों ने उन्हें गन्दी-गन्दी गालियां देते हुए लाठी लेकर दौड़ा लिया। 20 की रात में ही शावेज के पिता इरशाद ने परिचित वकील से मशविरा करके डीजीपी को ईमेल कराया और अगले दिन फैक्स भी। 21 को ही दोपहर दो बजे हजरतगंज थाने से फोन आया कि बच्चे थाने पर हैं, आप उनकी गाड़ी ले जाइये और मिल भी लीजिये। इरशाद ने बताया कि जब वे बच्चों से मिलने थाने पर गये, तो बच्चों का चेहरा काफी उतरा हुआ था, वे कुछ बोल नहीं रहे थे। ऐसा लग रहा था कि उन्हें काफी पीटा गया था। शावेज इण्टर का छात्र है और फरवरी में उसकी परीक्षायें होनी हैं। अब्दुल हफीज की अम्मी ने बताया कि उसी की कमाई से घर का खर्च चलता है, वह इलेक्ट्रिशियन है। जबकि इबाद जो कि उनकी दूसरी बहन का बेटा है टेलरिंग का काम करता है। उसकी उम्र 24 साल है। शावेज और अब्दुल हफीज़ की अम्मी का कहना है कि सरकार ये जो काननू लेकर आयी है, ये बहुत गलत है लेकिन हमारे बच्चे तो प्रदर्शन में शामिल भी नहीं थे, केवल अपने बहनोई का पता लगाने गये थे। समीन की पत्नी अपनी छः महीने की बच्ची के साथ मायके आ गयी है। पूरे घर में एक साथ इतनी गिरफ्तारियां होने से मातम पसरा है। इसके खिलाफ सबका गुस्सा है।

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


पीएफआई का सच– वसीम अहमद जो कि पीएफआई की एडहाक कमेटी के कन्वीनर हैं और पुलिस जिन्हें इस ‘बलवे’ का मास्टरमाईड बताया है, की गिरफ्तारी के बारे में पीएफआई के लोगों ने बताया कि 18 दिसम्बर की शाम ही वसीम अहमद के घर पर पुलिस आयी थी, वे घर में नहीं थे। घर के लोगों से उसने एक नोटिस पर दस्तखत करने को कहा, लेकिन घर वालों ने इंकार कर दिया। पुलिस ये बोलकर गयी कि ‘घर तो देख ही लिया है फिर कभी भी आ सकते हैं।’ 19 की रात वसीम अपने भाई समीन को तलाशने कुछ साथियों के साथ हजरतगंज थाने पर गये थे, जहां उन्हें अन्दर बिठा लिया गया। फिर 22 तक उनके बारे में कुछ पता नहीं चला। 21 को रात में पुलिस में हमारे खुर्रम नगर स्थित गेस्ट हाउस पर छापा मारा था, पड़ोसियों ने बताया कि 12 गाड़ियों में भर कर पुलिस यहां आयी थी और अन्दर एक घण्टे से अधिक समय तक रही। वहां सो रहे नदीम अहमद और मोहम्मद अशफाक को गिरफ्तार कर लिया, कम्प्यूटर सहित हमारा बहुत सारा सामान पुलिस उठा ले गये।
पीएफआई के सदस्यों की इस प्रदर्शन में भूमिका के बारे मे पूछने पर इन्होंने बताया कि ‘पीएफआई की ओर से तो सदस्यों को इस प्रदर्शन में शामिल नहीं होने का आदेश दिया गया था, क्योंकि न जाने किस संगठन की कॉल पर यह प्रदर्शन हो रहा है, कौन क्या करेगा पता नहीं।’


लेकिन पुलिस का ‘आरोप’ है उनके ऑफिस से सीएए विरोधी प्लेकार्ड, बैनर और पर्चे मिले हैं, इस सम्बन्ध पूछने पर उन्होंने बताया कि ‘ये 11 दिसम्बर के हैं, जब हम ‘सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इण्डिया’ की कॉल पर लखनऊ के एक प्रदर्शन में शामिल हुए थे, उसी दिन की तख्तियां गेस्ट हाउस में रखी हुए थीं।’ पीएफआई के कामों के बारे में सदस्यों ने बताया कि संगठन गरीब मुसलमानों के लिए पढ़ाई का काम मुख्य तौर पर करता है। गेस्ट ऑफिस में भी उस दिन करीब डेढ़ सौ स्कालरशिप के फार्म रखे थे जिसे पुलिस वाले पूरे बैग सहित उठा ले गये। सदस्यों ने बताया ‘हम मदरसों में दी जाने वाली शिक्षा पर भी काम करते हैं। इसके अलावा हम कुछ दीनी काम भी करते हैं।’
पुलिस उन पर इतना अधिक टारगेट क्यों कर रही है, इसके जवाब में उनका कहना है ‘‘क्योंकि हम मुसलमान हैं और हमारा संगठन फासिज्म के खिलाफ बोलता हैं। हमने यूएपीए के खिलाफ भी अभियान चलाया था, हमारे ऑफिस पर बाबरी मस्जिद के इतिहास सम्बन्धी और फैसले के विरोध में कुछ साहित्य था, ये बातें सरकार को बुरी लगी होंगी।’’
अभी भी जब कि पीएफआई पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी चल रही है, सदस्यों को अंदेशा है कि गिरफ्तारियों की संख्या अभी और भी बढ़ेगी।


प्रदर्शन के दौरान मौत– प्रदर्शन के दौरान दौलतगंज मेें रहने वाले ऑटोचालक मोहम्मद वकील की गोली लगने से मौत हो गयी। जांच टीम के सदस्य मृतक के परिजनों से मिलने उनके घर गये। मोहम्मद वकील के पिता मोहम्मद शफरूद्दीन ने बताया उनका सबसे बड़ा बेटा मोहम्मद वकील 19 तारीख के प्रदर्शन को देखते हुए ऑटो चलाने नहीं गया था। उसे भीड़ से नफरत थी। पत्नी की दवा और घर का राशन लेने वह दोपहर घर से बाहर निकला था। कुछ सामान नहीं मिल रहा था तो गली से बाहर निकलकर मेन रोड पर निकल गया, वहीं पर उसे गोली लगी। उसी के फोन से किसी ने 3 बजे के आसपास फोन किया कि उसे गोली लग गयी है। उनके दोस्त समीर भागे और उसे लेकर ट्रामा सेंटर पहुंचे, लेकिन वह नहीं बच सका। गोली किसने चलाई इस बारे में घर वालों का कहना है कि ‘उन्होंने देखा नही तो कैसे कह सकते हैं।’ लेकिन अखबार की रिपोर्टाें के अनुसार यहां पुलिस फायरिंग की घटना हुई थी। जब मोहम्मद वकील की मौत हो गयी तब पुलिस वहां आयी और उसे पोस्टमार्टम के लिए ले गयी। अभी तक पोस्टमार्टम की रिपोर्ट घर के लोगों को नहीं सौंपी गयी। जबकि डीएम ने आनन-फानन में एक सरकारी घर का कागज उन्हें सौंप दिया है तथा पांच लाख रूपये का मुआवजा देने का वादा किया है। शरफुद्दीन अपने पांच बच्चों के साथ किराये के मकान में रहते हैं। वे राजमिस्त्री थे, लेकिन सभी राजमिस़्तत्रीयों की तरह उनका अपना कोई घर नहीं है। एक बेटी व्याहने को तैयार है। अकेला मोहम्मद वकील ही घर में कमाने वाला था। बाकी बच्चे अभी छोटे हैं। उन्हें सुबह 11 बजे से शाम 6 बजे तक डीएम आवास पर बिठाकर रखा जाता है, वहीं उनके भोजन चाय का प्रबन्ध भी किया जाता है। इस समय उन्हें कुछ सूझ नहीं रहा है कि क्या किया जाना चाहिए।

The Spate of Arbitrary Arrests and Violence under the Uttar Pradesh Regime – Fact-Finding


सन्दीप पाण्डेय को भी किया हाउस अरेस्ट– मैगसेसे पुरस्कार विजेता गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्ता सन्दीप पाण्डेय को  भी 19 की सुबह से ही हाउस अरेस्ट कर लिया था और उन्हें दिन भर बाहर नहीं निकलने दिया गया। उन्होंने अपने घर के बाहरी हिस्से में ही सीएए के खिलाफ तख्ती लेकर प्रदर्शन किया।


जांच के निष्कर्ष
1- 19 दिसम्बर के प्रदर्शन के सम्बन्ध में हुई गिरफ्तारियां फर्जी हैं। गिरफ्तार लोगों में अधिकांश लोग ऐसे हैं, जो प्रदर्शन में शामिल भी नहीं थे, जो शामिल थे भी वे शांतिपूर्ण प्रदर्शन करके वापस लौट आये थे, उनका प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा से कुछ लेना-देना नहीं था।


2-मोहम्मद शुएब और एसआर दारापुरी की गिरफ्तारी और उन पर हत्या का प्रयास जैसी धारायें लगाना सरासर गलत है। 18 की रात और 19 की सुबह से ही वे पुलिस की निगरानी में घर पर थे और उस रात पुलिस की गाड़ी ही उन्हें लेकर गयी और सीधे जेल भेज दिया। उन पर लगे आरोप झूठे और बेबुनियाद हैं।


3-सभी गिरफ्तारियों में पुलिस ने कानून के नियमों का खुल्लमखुल्ला उल्लंघन किया है। किसी भी गिरफ्तारी के बाद उसने घर वालों को सूचना नहीं दी, 24 घण्टें अन्दर किसी को भी मजिस्ट्रेट के सामने प्रस्तुत नहीं किया। कुछ लोगों को तो बिना मजिस्ट्रेट के सामने प्रस्तुत किये ही जेल भेज दिया।


4-पुलिस ने सभी का कस्टोडियल टॉर्चर किया। बीमार दारापुरी और मोहम्मद शुएब को ठण्डी रात में पूरी रात कुर्सी पर बिठाकर रखा, घर वालों को सूचना नहीं दी। बाकी सभी लोगों की थाने में पिटाई की, यहां तक कि थर्ड डिग्री टॉर्चर की बात भी सामने आयी है।


5-हजरतगंज थाना बना ब्लैकहोल- लोगों को अवैध रूप से हिरासत में रखने और पुलिस कस्टडी में लोगों के साथ मारपीट करने के मामले में हजरतगंज थाने की प्रमुख भूमिका रही। यह थाना इस मायने में ब्लैकहोल बन गया था कि जो भी यहां अपने परिजन का पता करने जाता था, वो वापस नहीं आ पाता था। इस थाने ने मानवाधिकार का सबसे अधिक उल्लंघन किया।


6-प्रदर्शन के दौरान पत्थरबाजी किसने शुरू की इसके बारे में कोई निश्चित प्रमाण नहीं है। प्रदर्शन में शामिल लोगों का कहना है कि ये प्रदर्शनकारी नहीं बल्कि बाहरी लोग थे। सदफ खुद अपने वीडियों में पुलिस वालों से कह रही है कि ‘इन लोगों को रोकिये ये हमारे बीच के नहीं है।’ लेकिन ऐसा कहने और उनका वीडियो बनाने पर पुलिस ने खुद सदफ को गिरफ्तार कर लिया। ये पुलिस पर संदेह खड़ा करती है। इस सन्दर्भ में हिंसा भड़काने के लिए पीएफआई को चिन्हित करना पुलिस पर सवाल खड़े करता है। संदीप पाण्डेय जी का कहना है कि पुलिस को एक बलि का बकरा चाहिए था, जो पीएफआई के रूप में उन्होंने खोज लिया है।


मांगे-
1-सभी गिरफ्तार लोगों को तत्काल रिहा किया जाये और उन पर लगे सभी मुकदमें वापस लिये जाये।


2-वकील अहमद की हत्या की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सार्वजनिक किया जाये। उसकी हत्या की जांच कर दोषी पर मुकदमा दर्ज किया जाये।


3-प्रदर्शन के दौरान हिंसा करने वाले तत्व कौन थे इसके लिए हाइकोर्ट न्यायधीश की अध्यक्षता में जांच कराई जाये।


4- पीएफआई पर सारा दोष मढ़ते हुए उसे प्रतिबन्धित करने की कार्यवाही तत्काल रोकी जानी चाहिए।


5- हजरतगंज थाने के थानाध्यक्ष और थाने पर तैनात सभी पुलिसकर्मियों को कानून का पालन न करने के लिए बर्खास्त किया जाय और उन पर कड़ी कार्यवाही की जाय। दीपक कबीर, सदफ जफर,रॉबिन वर्मा और अन्य कार्यकर्ताओ को शारारिक और मानसिक यातना देने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाये और उन पर मुकदमा चलाया जाये।